https://www.purvanchalrajya.com/

विश्व शांति के लिए भारतीय विद्वत महासभा द्वारा सामूहिक रुद्राभिषेक एवं हनुमान चालीसा पाठ का आयोजन

 


पूर्वांचल राज्य ब्यूरो, गोरखपुर (सुनील मणि त्रिपाठी)

गोरखपुर। अखिल भारतीय विद्वत महासभा द्वारा विश्व कल्याण के लिए हुआ हनुमान चालीसा का 108 पाठ एवं सामुहिक रुद्राभिषेक, हवन एवं प्रसाद वितरण दिन मंगलवार 28/5/2024/ दिन मंगलवार को बुढ़वा मंगल पर्व पर अखिल भारतीय विद्वत महासभा के विद्वानों द्वारा विश्व कल्याण और देश कि उन्नति के लिए केन्द्रीय कार्यालय जटाशंकर प्राचीन शिव मंदिर धर्मशाला बाजार निकट गुरुद्वारा पर श्री हनुमान चालीसा का 108 पाठ एवं सामुहिक रुद्राभिषेक, यज्ञ किया गया।पं देवेन्द्र प्रताप मिश्र ने बताया कि इस वर्ष पिंगल नामक संवत्सर चल रहा है, और इस वर्ष राजा मंगल ग्रह है और मंत्री श्री शनि देव महाराज है, जिसके कारण आकाशीय बिजली, चक्रवर्ती तुफान,जलीय आपदा, एवं राजनैतिक दलों में भी काफी उलट पलट होगा,, जिसके निवारण के लिए विद्वत महासभा ने पहल करते हुए श्री हनुमान जी की आराधना करने का संकल्प लिया और पूर्ण किया। जिसमें मुख्य रूप से पूर्व महापौर डॉ सत्या पांडेय ने कहा किइतिहास इस बात का साक्षी है कि मनुष्य ने कठोर परिश्रम द्वारा असंभव को भी संभव कर दिखाया है | परिश्रम मनुष्य के स्वास्थ्य के लिए भी आवश्यक है | शारीरिक और मानसिक परिश्रम के उचित तालमेल से व्यक्ति का तन और मन दोनों स्वस्थ रह सकता है | इसलिए परिश्रम से भागना नीरी मुर्खता है |और अखिल भारतीय विद्वत महासभा जो विश्व कल्याण के लिए निरन्तर धार्मिक अनुष्ठान का आयोजन करती रहती है, उसके लिए संस्था के सभी विद्वानों को प्रणाम करती हुं। संस्था के महामंत्री आचार्य कृष्ण कुमार मिश्र ने कहा कि विश्व कल्याण की कामना करते हुए सभी जीव जंतु के कल्याण की कामना करते हुए, आज इस बड़े मंगलवार के अवसर पर  विद्वान ब्राह्मणों के द्वारा देर्वाचन कार्य किया गया। हम ईश्वर से प्रार्थना करते हैं कि सभी लोग सुखी रहें दीर्घायु हो स्वस्थ रहें निरोग रहे।

“ॐ सर्वे भवन्तु सुखिनः सर्वे सन्तु निरामयाःसर्वे भद्राणि पश्यन्तु मा कश्चित् दुःख भाग्भवेत्”

सब सुखी हों, सब निरोग रहें। सब अच्छी घटनाओं को देखने वाले अर्थात् साक्षी रहें और कभी किसी को दुःख का भागी न बनना पड़े।इन्हीं शुभकामनाओं के साथ हनुमान जी की कृपा सभी पर बनी रहे।जयतु संस्कृतम्।

जयतु भारतम्।,पं. देवेन्द्र प्रताप मिश्र, आचार्य अश्विनी कुमार मिश्र, पं.सुरेन्द्र मणि त्रिपाठी,पं. प्रमोद द्विवेदी, पं. रमापति मिश्र, पं गंगेश मिश्र, पं.धीरज तिवारी, अध्यक्ष डॉ राजेन्द्र प्रसाद शुक्ल, आचार्य दिनेश मणि त्रिपाठी, पं. सतेन्द्र कुमार पाण्डेय , चैतन्य आनन्द मिश्र, वल्लभ प्रताप मिश्र, श्वेता मिश्र,हिमालिका मिश्र, ज्योतिष यज्ञ संस्कार समिति के अध्यक्ष डॉ. दिग्विजय शुक्ल, प्रधानाचार्य डा घनश्याम पांडेय, पं ज्ञान प्रकाश त्रिपाठी, व्यापार मंडल से समाजसेवी जितेन्द्र कुमार अग्रहरि, बब्लू अग्रहरि, महेश निगम,जय अग्रहरि, मनोज कुमार सिंह, एवं काफी संख्या में भक्त गण उपस्थित थे।

Post a Comment

0 Comments