https://www.purvanchalrajya.com/

पुराने कार्यकर्ताओं की अनदेखी सपा को पड़ सकती हैं भारी

सपा जिला अध्यक्ष से क्या सिख समुदाय भी है नाराज...?


पूर्वांचल राज्य ब्यूरो, पीलीभीत (शबलू खा)

पीलीभीत में लोकसभा चुनाव में लगे सभी दलों के प्रत्याशी अपने-अपने कार्यकर्ताओं को साधने में लगे हैं। वहीं सपा के कुछ पुराने कार्यकर्ताओं की अनदेखी पीलीभीत के प्रत्याशी को भारी पड़ती दिख रही है। क्योंकि कुछ पुराने कार्यकर्ता सपा जिला अध्यक्ष की नीतियों से भी खुश नहीं है। क्योंकि इससे पूर्व में भी पीलीभीत में एक के बाद एक सपा के कई कद्दावर नेताओं ने समाजवादी पार्टी से किनारा भी किया है,और साथ ही सपा जिला अध्यक्ष पर उनकी अनदेखी का आरोप भी लगाया। शायद इसी वजह से पूरनपुर क्षेत्र में इंडिया गठबंधन के प्रत्याशी के किसी भी कार्यक्रम में सपा कार्यकर्ता भीड़ जुटाने में भी असमर्थ दिखाई देते हैं। वही कई मीटिंगों में सिख समुदाय के लोगों के न आने से भी नगर में चर्चाओं का बाजार गर्म है। सपा जिला अध्यक्ष सिख समुदाय से आते हैं उसके बावजूद भी सिख वोटरो को साधने में नाकाम नजर आ रहे हैं।  फिलहाल 12 तारीख को अखिलेश यादव का चुनावी दौरा पूरनपुर में है। वही पुराने कार्यकर्ताओं की अनदेखी सपा जिला को भारी पड़ती दिख रही है। पुराने और वफादार सपा कार्यकर्ताओं का आरोप है कि सपा जिला अध्यक्ष किसी भी प्रोग्राम में नहीं बुलाते हैं। और न ही उनको किसी कार्यक्रम की जानकारी देते हैं। जिससे वह लोग काफी मीटिंगों और पार्टी के प्रोग्रामो में नहीं पहुंच पाते हैं। कुछ सपा कार्यकर्ताओं ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि जब से पीलीभीत की जिला अध्यक्षी मैं बदलाव हुआ है तब से पार्टी पीलीभीत में काफी पीछे गई है। और एक-एक कर कई बड़े सपा नेताओं ने पार्टी से किनारा भी किया है। वहीं सपा प्रत्याशी भगवत शरन गंगवार लगातार गांवो में चुनावी सभाएं कर रहे हैं साथ में आरती महेंद्र भी चुनाव में मेहनत से लगी हुई है। वहीं कुछ प्रत्याशी वोटरों को रिझाने की फिराक में बिना अनुमति के ही अपने कार्यालय पर रोजा इफ्तार व ईद मिलन समारोह सहित कई कार्यक्रम कर रहे हैं।

Post a Comment

0 Comments