https://www.purvanchalrajya.com/

कानपुर में पकड़ा गया आयकर का फर्जी अधिकारी, पुलिस ने भेजा जेल

चेकिंग के दौरान पकड़े गए महंगी कार में सवार रितेश शर्मा के पास आयकर विभाग का परिचय पत्र आदि भी हुआ बरामद 


बचने के लिए पहले पुलिस को जमकर हड़काया ,कड़ाई से पूछताछ की तो उगल दिया फर्जी आयकर अधिकारी होने का राज 

पूर्वांचल राज्य ब्यूरो, कानपुर  (सुनील बाजपेई)

कानपुर । फर्जी आयकर अधिकारी बनकर महंगी कर में घूम रहे रितेश शर्मा नामक युवक को दिन गुरुवार को पुलिस ने जेल का रास्ता दिखा दिया । 

बुधवार शाम को तब पकड़ा गया था जब पुलिस मानक से ज्यादा नकदी के आवागमन, अवैध शराब और अवैध असलहों की तलाश के लिए वाहन चेकिंग कर रही थी। जब पुलिस ने महंगी कार पर सवार फर्जी आयकर अधिकारी को रोका तो वह पुलिस से भिड़ गया। लेकिन जब पुलिस ने उसे सख्ती से पूछताछ कीतो उसने फर्जी आयकर अधिकारी होने की बात स्वीकार कर ली। इसके बाद ही पुलिस ने उसके खिलाफ मुकदमा दर्ज करने के बाद आज गुरुवार को उसे जेल भेज दिया । 

घटना के बारे में प्राप्त विवरण के मुताबिक उसे समय रावतपुर पुलिस मसवानपुर तिराहे पर बैरियर लगाकर वाहनों की चेकिंग कर रही थी। उसी दौरान कल्याणपुर की तरफ से एक काले रंग की सेल्टोस आते दिखाई दी। 

पुलिस ने बताया कि कार के आगे नंबर प्लेट के ऊपर एक बड़ी लाल रंग की प्लेट में आयकर विभाग, भारत सरकार लिखा था। जिसकी वजह से पुलिस वाले कार सवार युवक को आयकर विभाग का बड़ा अफसर ही समझ रहे थे, लेकिन इसी बीच रोके जाने से नाराज कार सवार ने पुलिस से अभद्रता शुरू कर दी। बस यहीं पर पांसा पलट गया । युवक की अभद्रता से झल्लाए पुलिस कर्मियों ने पूछताछ शुरू कर दी।

इसपर कार सवार ने अपना नाम रितेश शर्मा निवासी महावीरपुरम, नई बस्ती, थाना कल्याणपुर बताया। उसने आयकर विभाग का पहचान पत्र भी पुलिस के सामने प्रस्तुत किया, लेकिन पुलिस ने जब जांच पड़ताल की तो उसके नाम का कोई आयकर अधिकारी न होने की जानकारी मिली।

इधर पूछताछ में वह अपना पद तक नहीं बता पाया तो पुलिस का शक और गहरा गया। इसके बाद पुलिस ने उससे सख्ती से पूछताछ की तो वह टूट गया। 

पुलिस ने बताया कि आरोपित 23 वर्षीय रितेश शर्मा के पिता राजेन्द्र नाथ शर्मा कारपेंटर का काम ठेकेदारी पर करते हैं। सामान्य वर्ग से ताल्लुकात रखते हैं। स्नातक तक पढ़ाई पूरी कर चुके रितेश ने करीब चार महीने पहले उसने घर में भी झूठ बोला कि उसकी आयकर विभाग में नौकरी लग गई है। इस खुशी में पिता ने घर पर श्रीमद् भागवत कथा का भी आयोजन किया था।

 फिलहाल आज उसे जेल भेजने के बाद अब पुलिस जांच कर रही है कि कार खरीदने के लिए वह पैसा कहां से लाया। क्या वह ठगी भी करता था। पुलिस ने बताया कि इस बारे में भी गहराई की छानबीन करके आरोपी के खिलाफ कुछ धाराएं और भी बढ़ाई जा सकती हैं।


Post a Comment

0 Comments