https://www.purvanchalrajya.com/

मृत्यु प्रमाण पत्र जारी होते ही कोर्ट केस से मुख्तार अंसारी का नाम होगा बाहर

बांदा जेल में बंद मुख्तार अंसारी की 63 साल की उम्र में हार्ट अटैक से  हुई है मौत 



पूर्वांचल राज्य ब्यूरो, उत्तर प्रदेश (उप संपादक अरुण वर्मा)

गाजीपुर/उत्तर प्रदेश।  मुख्तार अंसारी की 63 साल की उम्र में हार्ट अटैक से मौत हो गई। वह बांदा जेल में बंद था। उस पर कुल 65 मुकदमे थे, जिनमें के कुछ पर कोर्ट ने फैसला भी सुनाया है। अंसारी की मौत के बाद उस पर विचाराधीन मामलों से उसका नाम हटा दिया जाएगा। एनबीटी ऑनलाइन ने एडीसी क्रिमिनल नीरज श्रीवास्तव से संपर्क किया। एडवोकेट श्रीवास्तव ने बताया कि न्यायिक प्रक्रिया है कि अगर किसी व्यक्ति पर कोई मुकदमा कोर्ट में चल रहा हो और उसकी मृत्यु हो जाय तो उसके लिए न्यायिक प्रक्रिया है।

श्रीवास्तव ने बताया कि अभियुक्त की मृत्यु के बाद उसका नाम केस से हटा दिया जाता है। उनकी ओर से गाज़ीपुर कोर्ट में चल रहे ऊसरी चट्टी मामले में न्यायालय में आवेदन दिया गया है। आवेदन में बताया गया है कि मुख्तार अंसारी की मौत होने के बाद इस केस से उसका नाम हटा दिया जाए।

एडीसी श्रीवास्तव के अनुसार आवेदन पर पुलिस के जरिए बांदा जेल प्रशासन से रिपोर्ट मांगी जाएगी। रिपोर्ट न्यायालय में पेश होने के बाद मुख्तार अंसारी का नाम केस बाहर कर दिया जाएगा। यही प्रक्रिया सभी कोर्ट में मान्य होगी जिन-जिन न्यायालय में मुख्तार पर केस चल रहा है।

Post a Comment

0 Comments